What is going on ?

Kalpanadidi, I guess is Rbee and most posts there seems to be of jani groups.
Kalpanadidi.wordpress.com

That banned members chakraan is also offered for a thread to freely discuss on sne=ha-salla-pam that I heard from a circulated e-mail that hit. Our guys were userid1234, goldgaminggirl, Meyappa kanna, rajakoing and Baagad Billa. Btw, where is doc dova? Tell him to advise the guy userid1234 to calm down a little, he is talking just like that xossip forum, left and right, he will get banned. This is not Xossip.
{{{{{ userid1234
Why i am not surprised , Hindus have a mentality of taking sides of women even if she murders their loved ones.Guess who is the pervert here ?
Hindu guys are weak mentally due to which their women are slutty.They think from their dicks not mind.Its better to adopt Islam atleast they are very clear on such issues.Hinduism had been quiet a tolerant religion. }}}}}

Lol. Dova advise our guy. He is on steroid?

PeterG, OutG, Ambhii, vs007, sid, Keralian ISSRO Queen, and few Maddus just lives in their own world and their bay area meetings and bores the forum in TNT with junkie talks.

Standard

Khabari ka Khulasa !..with Nidhi Raajdhaan

https://i.ytimg.com/vi/zJJzNXJePC4/hqdefault.jpg https://i1.wp.com/i.ndtvimg.com/i/2015-08/pm-modi-jayalalithaa-meeting_650x400_61438941026.jpg

नमस्कार !

इंडिया टीवी की ओर से, हर वीक, हर शाम को, ठीक आठ बजे दिखाई देने वाले, “टीवी ९” से प्रसारित येह न्यूज़ कार्य-क्रम में, मैं निधि राजधान की और से, हमारे सुनने वाले सभी श्रोता-गन का स्वागत है,.. बहोत बहोत धन्यवाद और काफी आभारी है हम, आप दर्शको का . . खबरी के खुलासा में, आज ब्रेकिंग न्यूज़ के रूप में बताने जाने वाली मुख्या और महत्व-पूर्ण घटना येह रही है की,….. “लोगों को जबर-दस्ती से, बहला-पटा कर, समज़ा-पटा कर, फुसला कर, पुरानी दन्त-कथा की कोई,.. “अ फॉक्स विथ अ कट टेयिल ” — मेरी पूंछ जो कट गयी,.. तोह आप भी कटवा लो — वार्ना पूंछ के होने का, येह येह इतने ढेर सारे, गैर-फायदे है– भारत वापिस बेहजने वाले एक इंटरनेट ग्रुप ने आज, अपने एक काफी महत्तम प्रतिस्थापित, काफी पुराने, स्टेबल और अंडरस्टेंडिंग, बंगाली महोदय सदस्य, महेरबान,.. जो की दोरे पे, चक्रान-बाबू से माने जाने वाले थे,.. एक काफी मानी-जानी हस्ती को आज, रंग-भेद की बहोत ही घटिया मुठ-भेद में, कुछ तामिल वासी ओ ने भारी निर्लज्जता पूर्वक, अपमानित कर के, ना-समज़ जाहिर कर के, कुछ मच्छी-मार्किट की ना बोलने वाली गूंगी फिश का उदहारण प्रस्तुत कर,
बोलने के, अधिकार को छीन ले कर, आखिर, महोदय श्रीमान बंगाली चकरण बाबू को दौरे से, उथला कर, रद्द-बातल कर दिया गया है. ऐसा कहा जाता है की, उन्हें चार मॉस के लिए पाणिचू दिया गया है ! कुछ सूत्रों का येह भी तोह कहना है की ऊँ को फ़साने की साज़िश कर, एक काफी गहरी चाल और जाल में उन्हें जान-बुज़ कर फंसाया गया है..

चक्रान बाबू, जो की पिछले १७ बरस से भी अधिक , याने की ब्लॉग- सिफ़ी के ज़माने से, डोरे पर रहे है, और घास-पूस, लोकी की सब्ज़ी, टेक्सास की ज़मीन और सब्ज़ी-तरकारी, फूल-पौधे, बर्डज़ और नेचर, निकोन फोटोग्राफी, बर्ड्स के क्लोस केप्शनद फोटोग्राफ्स, और कई ढेर सारे डोरे में ऊन का प्रतिपादन काफी महत्व-पूर्ण रहा ही है. आज यूँ अचनक उन्हें फोरम्स से बिना क्रेडिट, भारी आप-मान के साथ धक्का दे जो निकला गया था,.. ईसि घटा से , अन्य सभ्यों के मन में आज भारी शंका-कु शंका और हालांकि भारी लाग्नि जागृत हुयी है . प्रधान-मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने आज इसी विसय् पर भारी गंभीर चर्चा-विचारणा करते हुए, चिन्नई के सी एम जय ललिता से वाट-चिट करते हुए, इसी मामले पे भारी खेद, ग्लानि और रंज प्रकट किया है. शिकवा करते हुए, उनका कहना है की,
रंग-भेद और पूरब-पछिम वासी की इसी नीति पर एक मीटिंग फ़ौरन बुल वा कर फिर से चर्चा-विचारणा की जायेगी , कड़ी से कड़ी जान-भीज़ की जायेगी…और तामिल टाईगर्स की इसी रंग-भेद के वळण और चलन पर उन्हों ने सरेआम कड़क शब्दों में भारी निंदा करते हुए,.. उसे एक कावार्डली एक्ट बताया गया है… है, भारी और कड़क शब्दों में कड़ी से कड़ी निंदा कर , उन्हों ने फोरम के सभी आयोजन करता ओ को निंदनीय जाहिर किया है.

सूत्रों का ऐसा भी मानना है की पुराने मरीज़ जो की “जय विनायक ” से जाने जाते थे, वे आज सायकिअॅट्रिक सारवार से ठीक हो कर, एके नए अवतार में, ” नए-देसी” का निक लिए, फोरम को गुमराह कर, एक नयी स्टोरी ले कर मौजूद हुए है, और इस बार वह रोकुस और गुन लोग की स्टोरी के बजाय, ” बीवी kisi के साथ सो के आई है “, विसय पर , जिसे नेट की भासा में ट्रोल और स्पैम भी कहा जाता है.. ऐसे संवेदनाशील विसय से, आकर्षण का केंद्र बन, पिछले १० मॉस से , डोरे पे कब्ज़ा जमाये, रोते-ककलते, कांपते, और आश्वाशन प्राप्त करते हुए, ऊनन्हों ने अपना बल्ला विकेट पर अभी तक, कायम, जमाये रखा है ! बंगाली बाबू जो की इस शक्श के पास वाली बिल्डिंग में रहते थे, तोह जाहिर सी बात है की, सब भांडा और पोल खुल जाने पर, जय विनायक खफा हो गए थे…. कुछ तामिल के साथ बनायी गयी ट्रैप में, बंगाली बाबू आज पूरी तरह फंसे थे. हमारे एक प्रवक्ता गण का ऐसा भी तोह मानना है की, फोरम की मंद परिस्थिति में, खुद फोरम के चालक, संस्थापक और आयोजन-करता, ऐसी हाइप और वाहियारटी चीज़ों को वेग दे कर, डोरे को प्रोत्साहित कर, सभ्यो का जुस्सा और रस टिका रखने के वास्ते ही, राज-नीति का उपयोग कर, बड़ी बेवजूद, न-कामियाब और घटिया और शर्म-जनक किसम की निंदनीय कोशिश कर रहे है. देखना येह है की, फोरम के किसी भी माई के लाल, या भड़-वीर ने चक्रान बाबू के फेवर में कोई भी समर्थन या टेका, ना देते हुए, किसी कायर , ना-मर्द , इम्पोटेंट याने की, व्युँधल वर्तणूक का एक बार फिर से, पोज़ और प्रदर्शन दिया है. येह वह ही स्पाइन-लेस्स ग्रुप है जहाँ से कुछ मॉस पहले, अग्रिम सदस्य जैसे की बोबस सर, मोमेंटो विवेरे देवी, और ऐसे कई ओ को, आधी रात में, भर-बाजार में, कला बुरखा पहना कर,..पानी-चु दिया गया था, और kisi ने भी आयोजन कार को निंदा या अवहेलना कर जवाब मांगने के बजाय, हा हा ही ही कर, व्यंधल वर्ग का कोई आबे-हुब परिचय दिया था, और ताबोटे लगाए थे. हमारे पत्रकार की नज़र से येह किसी भी एंगल से, किसी एड्यूकेटेड दौरे के लछन, नहीं थे.

प्रधान मंत्री का येह भी तोह कहना है की, अगर लोक शाही में, बोलने, चालने और व्यक्तिगत विचारो को एक्सप्रेस कर ने पर जो शंका, लघु-शका और नस-बंधी की जायेगी, तोह, सरमुखत्यार हिटलर , मुसलिनी और स्टार्लिन राज और इसी सोफिस्टिकेटेड सो कोल्ड, लुंगी-मदन तामील टाइगर्स में, कोई भी फर्क ना रहने पायेगा.

प्रधान मंत्री ने, जय ललिलता से इसी मामले में दुबारा छान-विज़ कर, दर-खास्त रख, इस मामले को फिर से मूल्यांकन करवाने का वचह्न लिया है, और रंग-भेद की नीति और आधे गिलास रोज़-मिल्क या फिर सर्वाना भवन के दोंसाई पर चालने वाली , येह रंग-भेद की नीति वाली, तामिल ट्राईन का विरोध और निरोध किया है. कहा जाता यही की, मोदी जी , इसी सील-सिले में रजनी सर से भी मिल-कर , मिले-जुले हुए लुंगी-मदन को सर-बाजार नंगा कर, मुछ-मुंडी, कोयले का काला चहेरा कर, भर बाजार अवली मुंडी, डोंकी पे बिठा कर, सारे शहर में यात्रा कीये जाने के काबिल माने जाएंगे… मोदी जी का कहना हें की, रंग-भेद की नीति को
या तामिल टाईगर्स की जो-हकमी को, वे कोई भी किम्मत पर सहने को तैयार नहीं है.
प्रधान मंत्री ने आम-जनता को भी चक्रान-बाबू के साथ रह, इस सारी घटना का पूरा विरोध करने की
मांग प्रकट की है.

इसी के साथ हमारे आज के समाचार समाप्त हुए, इज़ाज़त चाहते है… अगले हप्ते फिर मिलेंगे,.. तब तक जुड़े रहिये,..टीवी ९ से,..
इंडिया टीवी, निधि राजधान की और से,.. शब्बा खैर, और शुभ रात्रि.

 

 

Standard

Chakraan Babu is banned after 17 years of long journey.

Chakraan Babu is banned after 17 years of long journey.

I object your  honor. Chak-Babu is a bhola-bhala, deel ka seedha-saada, sachha-bola guy, jo deel mein hai woh hi zubana pe hai, calling spade a spade guy,

uus din jab sabhi ne mil ke vizaagganesh ki band bajaayi, tabhi bhi saaf-saf bol diya ki “ sabhi ne mil-kar uus ki bajaayi” aur chak-babu ban ho gaye the, yeh doosari baar huaa. Iis se pahele bhi, jab naye naye Singapore se aa kar, Chakaarn’s Diary kholi thii, toh Singapore ke experience describe karte karte hi ban ho gaye the.  Chakran is a spapshst-waqta and straight-shooter. Lakshiya me jo himmat ka kabhi-kabhaar abhav dikhayi deta hai, woh chak-babu mein bilkul nahee hai.   Doctor dovahkiin ka bhi yeh hi kahena tha.

By the way, Dova ka thread abhi khulne wala hai, lekin kuchh kam-kaaz ki vazah se BZ ho gaye hai, toh yeh sandesh bheja hai:

[[[ I would, I am on night duty these days, plus have to study (medical) some for exam (worst part of medical profession, Always giving exams) Because of that, I am unable to do ‘original work’ these days, Anywhere. Mostly I just copy news with few lines of reply on topics. Previously when I posted stuff, I was on kind of long medical leave (for almost 5 months), that kind of work requires a bit free mind. Today’s last night duty (I don’t do nights usually).

I would take 2-3 days leave from probably tomorrow. I would post old stuff there with grammar editing and in better format, But doing new ‘original work’ from a scratch won’t be possible for at-least 2-3 months.]]]]

 

Prakash bhayi ka maanana hai ki, Chakran Babu chahe toh, snehasallpam pe thread khol sakte hai, jis ke liye authorized permission hai, Mihir  dwara sandesha bheja gaya hai.

Chakran bhayi ke Thread kholne par, sab ko,  discussion ke vaste ek honest platform mil sakta hai, aur post edit/omit/delete kabhi bhi,  uus ke poster dwara kiya ja sakta hai.

Chakran babu ko  e-mail padh ke fensala lena hoga. WP pe  10s of blogs are there, and no1 visits all,  also cut/trim/ edit/delete bahoot hota hai, aur freedom jaisa nahee hai,

 

 

Standard